28 September, 2012

सरफ़रोशी की तमन्ना - Sarfaroshi Ki Tamanna

Sarfaroshi Ki Tamanna - Bhagat Singh
सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है,
  देखना है जोर कितना बाजु-ए-कातिल में है ।

एक से करता नहीं क्यों दूसरा कुछ बातचीत,
  देखता हूँ मैं जिसे वो चुप तेरी महफिल में है ।

रहबरे-राहे-मोहब्बत रह न जाना राह में
  लज्जते-सेहरा-नवर्दी दूरि-ए मंजिल में है ।

यूँ खड़ा मकतल में कातिल कह रहा है बार-बार
  क्या तमन्ना-ए-शहादत भी किसी के दिल में है?

ऐ शहीदे-मुल्को-मिल्लत मैं तेरे ऊपर निसार
  अब तेरी हिम्मत का चर्चा ग़ैर की महफिल में है ।

वक्त आने दे बता देंगे तुझे ऐ आसमाँ,
  हम अभी से क्या बतायें क्या हमारे दिल में है ।

खींच कर लाई है सबको कत्ल होने की उम्मींद,
  आशिकों का आज जमघट कूंच-ए-कातिल में है ।

सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है,
  देखना है जोर कितना बाजु-ए-कातिल में है ।

है लिये हथियार दुश्मन ताक में बैठा उधर
  और हम तैय्यार हैं सीना लिये अपना इधर

खून से खेलेंगे होली गर वतन मुश्किल में है
  सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है

हाथ जिनमें हो जुनून कटते नहीं तलवार से
  सर जो उठ जाते हैं वो झुकते नहीं ललकार से

और भडकेगा जो शोला-सा हमारे दिल में है
  सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है

हम तो निकले ही थे घर से बांधकर सर पे कफ़न
  जाँ हथेली पर लिये लो बढ चले हैं ये कदम

जिंदगी तो अपनी मेहमाँ मौत की महफ़िल में है
  सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है

दिल मे तूफानों की टोली और नसों में इन्कलाब
  होश दुश्मन के उडा देंगे हमें रोको न आज
दूर रह पाये जो हमसे दम कहाँ मंजिल में है
  सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है


Sarfaroshi kii tamannaa ab hamaare dil mein hai
  Dekhnaa hai zor kitnaa baazu-e-qaatil mein hai
Ek se karataa nahin kyon dusaraa kuchh baat-cheet
  Dekhtaa hun main jise woh chup teri mehfil mein hai
Aye shaheed-e-mulk-o-millat main tere oopar nisaar
  Ab teri himmat ka charchaa gair kii mehfil mein hai
Sarfaroshi kii tamannaa ab hamaare dil mein hai
  Dekhnaa hai zor kitnaa baazu-e-qaatil mein hai
Waqt aane de bataa denge tujhe aye aasamaan
  Hum abhii se kyaa bataayen kyaa hamaare dil mein hai
Kheench kar laayee hai sab ko qatl hone ki ummeed
  Aashiqon ka aaj jamaghat koonch-e-qaatil mein hai
Sarfaroshi ki tamanna ab hamaare dil mein hai
  Dekhnaa hai zor kitnaa baazu-e-qaatil mein hai
Hai liye hathiyaar dushman taak mein baithaa udhar
  Aur hum taiyyaar hain seena liye apnaa idhar
Khoon se khelenge holi gar vatan muskhil mein hai
  Sarfaroshi ki tamannaa ab hamaare dil mein hai
Haath jin mein ho junoon katate nahin talvaar se
  Sar jo uth jaate hain vo jhukate nahin lalakaar se
Aur bhadakegaa jo sholaa-saa hamaare dil mein hai
  Sarfaroshi ki tamannaa ab hamaare dil mein hai
Hum to nikale hii the ghar se baandhakar sar pe kafan
  Jaan hatheli par liye lo barh chale hain ye qadam
Zindagi to apnii mehamaan maut ki mehfil mein hai
  Sarfaroshi ki tamannaa ab hamaare dil mein hai
Yuun khadaa maqtal mein qaatil kah rahaa hai baar-baar
  Kya tamannaa-e-shahaadat bhi kisee ke dil mein hai
Dil mein tuufaanon ki toli aur nason mein inqilaab
  Hosh dushman ke udaa denge hamein roko na aaj
Duur rah paaye jo hamse dam kahaan manzil mein hai
  Sarfaroshi kii tamannaa ab hamaare dil mein hai
Jism bhi kya jism hai jisamein na ho khoon-e-junoon
  Kya wo toofaan se lade jo kashti-e-saahil mein hai
Chup khade hain aaj saare bhai mere khaamosh hain
  Na karo to kuchh kaho mazhab mera mushkil mein hai
Sarfaroshi ki tamannaa ab hamaare dil mein hai
  Dekhanaa hai zor kitnaa baaju-e-qaatil mein hai

1 comments:

  1. देखे भारत की हसीनाओ को एक क्लिक पर http://guruofmovie.blogspot.in/

    ReplyDelete