28 June, 2012

Bhari Mehfil - भरी महफिल

Hindi Shayari, Love Shayari
भरी महफिल में तनहा रहना अच्छा लगता है,
 तेरे बारे में सोचते रहना अच्छा लगता है,
कभी फूल में कभी कलियों में,
 तुझकों ही ढूँढते रहना अच्छा लगता है,
मेरी जिन्दगी की खुशीयाँ तुमहीं से है वाबसता,
 रब से बस तुम्हें ही माँगना अच्छा लगता है,
तुम्हारे बगैर जिन्दगी का कोई तस्वुर नहीं है,
 कुछ इस तरह तुम्हारी तमन्ना करना अच्छा लगता है,
तुम ही को चाहा, तुम ही को चाहते है,
 तुम ही को चाहते रहना अच्छा लगता है,



Bhari Mehfil Mein Tanha Rehna Acha Lagta Hai,
 Tere Baare Mein Sochte Rehna Acha Lagta Hai.
Kabhi Phoolon Mein; Kabhi Kaliyoun Mein,
 Tujh Ko Hi Dhoondhte Rehna Acha Lagta Hai.
Meri Zindagi Ki Khushiyan Tumhi Se Hain Wabasta,
 Rab Se Sirf Tumhein Hi Mangna Acha Lagta Hai.
Tumhare Bagair Zindagi Ka Koi Tasawwur Nahi Hai,
 Kuch Iss Tarah Tumhari Tamanna Karna Acha Lagta Hai.
Tum Hi Ko Chaha; Tum Hi Ko Chahte Hai,
 Tumhi Ko Chahte Rehna Acha Lagta Hai.

1 comments:

  1. आप के ब्लॉग की जितनी भी तारीफ की जाए कम है देखे भारतीय सिनेमा की हर खबर एक क्लिक पर http://guruofmovie.blogspot.in/

    ReplyDelete