14 December, 2011

मिलने आऐंगे

मिलने आऐंगे आपसे खवाबो में,
  ज़रा रोशनी के दीये बुझा दीजीऐ..
आब ओर नहीं होता इंतजार आपसे मुलाकात का,
  आपनी आँखों के पर्दे ज़रा गिरा दीजीऐ



Milne aayenge aapse khwabo mein
  Jara roshni ke diye bhuja dijiye
Ab or nahi hota intezar aapse mulakat ka
  Apni aankhon ke parde gira dijiye