31 August, 2011

देखिऐ चाँद - Dekhiyeh Chand

देखिऐ चाँद रात आई है,
   साथ खुशीयाँ हज़ार लाई है.....
तुम चले आओ एक लम्हे को,
   हम भी माने की ईद आई है....
चाँद भाया है चंद लम्हो को,
   जैसे तुमने झलक दिखाई है...
हमने किस्मत अजीब पाई है,
   ईद का दिन है..और जुदाई है....
कह रहें है हवा मुझे यासिर.!!!
   उसने मेहन्दी अभी लगाई है..



dekhiyeh chand raat aai hai
  sath khushian hazar laee hai
tum chaley aao aik lamhey ko
  ham bhi manain ke eid aae hai
chaand bhia ya chand lamhon ko
  jaisey tum ney jhalak dikhai hai
ham ne qismat ajeeb paee hai
  Eid ka din hai aur judai hai
keh rahe hai hawa mujhy yasir!
  us ne mehndi abhi lagaii hai