17 August, 2010

शायद ये वक्त


शायद ये वक्त हमसे कोई चाल चल गया,

रिश्ता वफा का और ही रंगों में रंग गया,

अश्कों की चाँदनी से थी बेहतर वो धूप ही..

उस मोड़ से शुरू करे फिर से ये जिन्दगी...




Shayad yeh waqt humse koi chaal chal gaya,

rishta wafa ka aur hi rangon mein dhal gaya,

ashqon ki chandni se thi behtar woh dhoop hi,

uss modd se shuru kare phir se ye zindagi

0 comments

Post a Comment