21 मई, 2010


उसकी बातो को बार-बार याद कर के रोए..

उसके लिए दर-दर पे फरियाद कर के रोए..

उसकी खुशी के लिए उसे छोड़ दिया...

फिर उसे किसी और के साथ आबाद कर के रोए..



0 टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें