Posts

Showing posts from January, 2010

तेरे प्यार को इन पलकों पर

मेरे दिल मे था

ਹੋਰ ਕੁਝ ਨਹੀ ਚਾਹੀਦਾ

रुलाना हर किसी को

ਉਹ ਕਹਿੰਦੀ ਮੈਨੂੰ ਭੁਲ ਜਾ

ਸਰਕਾਰੀ ਸਕੂਲ ਦੇ ਬੱਚੇ

एक अदा आपकी

मैं डुबा तो

ਜਿਸ ਦੀਨ ਦੇਖਿਆ ਸੀ

ਕਿ ਹਾਲ ਸੁਣਾਵਾ

मौत के बाद

सजा देने वाले

रुलाने वाले

आज करीब से

तमन्नाओं में

ਕਿ ਲਿਖ-ਲਿਖ

माना की कल हम

नज़रों को नज़रों की

किसी दिन तेरी नज़रो से

मेरी बर्रबादी पर