07 September, 2009

हर लम्हा याद आता रहता



फुल से पुछो इसमे शिंगार कितना है...

मेरे दिल से पुछो इसमे प्यार कितना है..

साये की तरह तुम्हारा प्यार साथ रहता है..

तुम्हारे साथ गुजरा हुआ हर लम्हा याद आता रहता है..


0 comments

Post a Comment