Posts

Showing posts from June, 2009

मुस्कराना ही ख़ुशी नहीं

वो नगमे

दोस्त कहना ही दोस्ती नहीं

ਯਾਰ ਤੇਰੇ ਵਰਗੇ

भुला ना देना

ना ज़मीन, ना सितारे,

दोस्ती उन से करो

बहते अश्को की

हर किसी से रिश्ता बना कर रखना

कोई दुनीयाँ मे खास नही होता

बहुत रोई है ये आँखे

हर तरफ खामोशी