19 अप्रैल, 2009

इश्क की बाजी

दिल से खेलना हमे आता नहीं
इसलिये इश्क की बाजी हम हार गए
शायद मेरी जिन्दगी से बहुत प्यार था उन्हें
इसलिये मुझे जिंदा ही मार गए

0 टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें